Friday, December 9, 2022
spot_imgspot_img
Homeशहरकानपुरअमिताभ बाजपेई की विधायकी पड़ सकती है खतरे में!

अमिताभ बाजपेई की विधायकी पड़ सकती है खतरे में!

जन एक्सप्रेस से कमलेश फाईटर की विशेष रिपोर्ट
कानपुर नगर। शहर की बहुचर्चित आर्य नगर विधानसभा सीट से भाजपा के लोकप्रिय विधायक सलिल विश्नोई को हराकर ऐतिहासिक चुनाव जीतने वाले समाजवादी पार्टी के अमिताभ बाजपेई 9 साल पहले बिठूर में दर्ज हुए मुकदमे के कारण मुसीबत में पड़ सकते हैं और उनकी विधायकी की भी खतरे में पड़ सकती है। सूत्रों की माने तो कुछ लोग विधायक को उनकी सीट से हटाने के लिए उनके द्वारा नामांकन के दौरान दिया गया शपथ पत्र तलाशने में जुट चुके हैं।
शहर से समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता अमिताभ बाजपेई का नाम शहर में शायद ही ऐसा कोई हो जो ना जानता हो क्योंकि श्री बाजपेई किसी भी विधानसभा का मामला हो किसी को भी मुसीबत में देखकर उसकी मदद को पहुंच जाते हैं। श्री बाजपेई लोहिया वाहिनी के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रह चुके हैं और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के काफी करीबी माने जाते हैं वर्ष 2007 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान उन्हें अखिलेश ने चौबेपुर विधानसभा से प्रत्याशी बनाया था परंतु उनके हाथ हार लगी थी! बीते दिनों एक मामले में थाना बिठूर से लगभग 9 वर्ष पूर्व दर्ज हुए मुकदमे में न्यायालय से जमानत कराने के बाद अच्छी खासी चर्चा में आ गए हैं।
मुकदमे की जानकारी प्रकाश में आने के कारण विधायकी पड़ सकती है खतरे में
शहर के कुछ अखबारों में यह खबर छपते ही की वर्तमान के समाजवादी पार्टी से आर्य नगर विधायक अमिताभ बाजपेई ने 9 साल पुराने मामले में न्यायालय से अंतरिम की जमानत अर्जी लगाई है। विरोधी खेमा सक्रिय हो गया और चुनाव आयोग के समक्ष नामांकन के दौरान दिए गए शपथ पत्र को ढूंढऩे में लग चुका है। सूत्र तो यहां तक बताते हैं कि कुछ बिल्डर भी सक्रिय हो चुके हैं जिनके विरुद्ध गरीबों को न्याय दिलाने के लिए विधायक अमिताभ बाजपेई ने अपनी आवाजें बुलंद की थी।
नामांकन के दौरान चुनाव आयोग को दिए गए शपथ पत्र में किसी भी मुकदमे का ना होना दर्शाया था
मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2017 में समाजवादी पार्टी से आर्य नगर विधायक विधानसभा का प्रत्याशी घोषित होने के बाद अमिताभ बाजपेई द्वारा नामांकन के दौरान दिए गए शपथ पत्र में किसी भी मुकदमे का ना होना दर्शाया गया था। परंतु बीते दिनों न्यायालय में नव वर्ष पूर्व लगे मुकदमे में जमानत कराने के बाद अब विरोधी खेमा विधायक को घेरने की तैयारी कर चुका है । हालांकि इस मामले में विधायक अमिताभ बाजपेई से उनका पक्ष जानने के लिए प्रयास किया गया परंतु उनका पक्ष नहीं आ सका है । अगर उनका पक्ष आता है तो जन एक्सप्रेस उनके पक्ष को अगले अंक में जरूर प्रकाशित करेगा।

 

 

 

 

RELATED ARTICLES

Cricket live Update

- Advertisment -spot_imgspot_img
- Advertisment -spot_imgspot_img

Most Popular