चैत्र नवरात्र : पहले दिन शैलपुत्री स्वरूप की पूजा अर्चना कर भक्तों ने मांगी खुशहाली

उत्तर प्रदेश कानपुर राज्य शहर
सच दिखाने की जिद...

जन एक्सप्रेस संवाददाता
कानपुर नगर। चैत्र नवरात्र के पहले दिन भक्तों ने प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री की पूजा अर्चना की। मंदिरों में जय माता के उद्घोष के साथ दर्शन पूजा की। मंदिर प्रबंधन व पुलिस प्रशासन ने कोविड-19 की गाइड लाइन का पालन कराते हुए भक्तों को मंदिर परिसर में प्रवेश दिया। कोरोना संक्रमण के चलते बीते कई वर्षों की अपेक्षा इस बार मंदिरों में भक्तगण का उमडऩे वाला रैला देखने को नहीं मिल रहा है।
बिरहाना रोड स्थित सिद्धपीठ तपेश्वरी मंदिर के पुजारी नरेश पंडित ने बताया कि कोरोना गाइड लाइन का पालन कराते हुए एक बार में पांच भक्तों को मंदिर के अंदर जाने दिया जा रहा है। जिससे मंदिर परिसर में ज्यादा भीड़ न हो सके और भक्तों को आसानी से मईया के दर्शन का लाभ मिल सके। उनका कहना है कि बीते कई वर्षों की अपेक्षा मंदिर में आने वाले भक्तों में कमी देखने को मिल रही है। उसका मुख्य कारण कोरोना संक्रमण के बढ़ते संक्रमित मरीजों की संख्या है। पुजारी ने बताया कि इस बार मंदिर प्रांगण में एक स्थान पर ज्यादा भीड़ इकठ्ठा नहीं होने दिया जाएगा।
पहली बार नवरात्र में बन्द रहे बारादेवी के पट
प्राचीन बारादेवी मंदिर को आज से 27 अप्रैल तक पूरी तरह से बंद रखने का निर्णय मंदिर कमेटी द्वारा लिया गया है। इसके चलते इस चैत्र नवरात्र में श्रद्धालु बारादेवी माता के दर्शन नहीं कर सकेंगे। घाटमपुर स्थित कुष्मांडा देवी मंदिर में भी कोविड संक्रमण को देखते हुए अपेक्षा से कम भक्तों की भीड़ दर्शन के लिए पहुची। कुल मिलाकर चैत्र नवरात्र में एक बार फिर कोविड संक्रमण का साया मंडराने के चलते मंदिरों में भक्तगण दर्शन पूजन के लिए सावधानी के साथ आ रहे हैं। वहीं पिछले सालों की तरह सख्ती व कोरोना प्रकोप को लेकर कम ही पहुंच रहे हैं।
भक्तों की भीड़ न पहुंचने से दुकानदार निराश
मंदिर के बाहर प्रसाद बेचने वाले दुकानदार ने बताया कि पहले नवरात्रों के समय प्रसाद खरीदने वालों का तांता लगा रहता था, लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए भक्तों में आई कमी से पहले की तरह दुकानदारी नहीं हो रही है। फीलखाना थाना प्रभारी का कहना है कि हमारी टीम लगातार मुस्तैदी से नजर मंदिर व आसपास खड़े लोगों पर नजर बना हुए है। जिससे कि कोई अप्रिय घटना न घटित हो सके साथ ही मंदिर में आने वाले भक्तों को कोविड-19 का पालन कराते हुए ही मंदिर परिसर में प्रवेश दिया जा रहा है।


सच दिखाने की जिद...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *