बीआईआरएसी इनोवेटर अवार्ड—2021 से नवाजा गया ‘आईआईटी कानपुर’

उत्तर प्रदेश कानपुर राज्य शहर
सच दिखाने की जिद...

जन एक्सप्रेस संवाददाता
कानपुर नगर। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) कानपुर समर्थित ‘फूल डॉट को’ के लिए गुरुवार को दिन एक नई ऊचांईयों को हासिल करने वाला रहा। देश के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने उदय कोटक (अध्यक्ष, सीआईआई) और डॉ. किरण मजूमदार शॉ (अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, बायोकॉन लिमिटेड) और सचिव, जैव प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार डॉ. रेणु स्वरूप ने फ्लेदर के लिए बीआईआरएसी इनोवेटर अवार्ड—2021 से सम्मानित किया गया।
फ्लेदर मंदिर के फूलों और खेत के कचरे से बने जानवरों के चमड़े के लिए एक क्रूरता-रहित जैव-विकल्प है। एसआईआईसी, आईआईटी कानपुर में स्थापित, फूल ने एक बायोमेट्रिक विकसित किया जो लगभग चमड़े की तरह प्रदर्शन करता है। जैव प्रौद्योगिकी उद्योग अनुसंधान सहायता परिषद (बीआईआरएसी) भारत सरकार के जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी) द्वारा स्थापित एक गैर-लाभकारी संगठन है, जिसका उद्देश्य राष्ट्रीय अनुसंधान-प्रासंगिक विकास आवश्यकताओं को संबोधित करते हुए रणनीतिक अनुसंधान और नवाचार करने के लिए उभरते बायोटेक उद्यमों को सशक्त बनाना है। बीआईआरएसी इनोवेशन अवार्ड के लिए चयन, सचिव, जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी) और अध्यक्ष, जैव प्रौद्योगिकी उद्योग अनुसंधान सहायता परिषद (बीआईआरएसी) द्वारा स्थापित एक प्रतिष्ठित जूरी द्वारा किया गया था। जो शोध-आधारित वैज्ञानिक नवाचारों को सबसे महत्वपूर्ण योगदानकर्ताओं को मान्यता प्रदान करता है। ग्लोबल बायो-इंडिया 2021 के दौरान, जैव प्रौद्योगिकी विभाग, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय और बीआईआरएसी द्वारा जैव प्रौद्योगिकी हितधारकों की एक मेगा अंतर्राष्ट्रीय मण्डली द्वारा मेगा इनोवेशन के लिए ‘फूल डॉट को’ को उनके इनोवेशन फ्लेदर के लिए सम्मानित किया गया।
एसआईआईसी, आईआईटी कानपुर भारत का एक अग्रणी प्रौद्योगिकी व्यवसाय इनक्यूबेटर (टीबीआई) है जो 75 अत्याधुनिक नवाचार संचालित उद्यमों का समर्थन करता है। एसआईआईसी के नवाचार जैसे कि एंड्योर एयर, सीडी स्पेस रोबोटिक्स, एनओसीसीएआरसी रोबोटिक्स, कृत्स्नम टेक्नोलॉजीज हाल ही में राष्ट्रीय समाचारों की सुर्खियों में थे, वे संकट के समय में राष्ट्र की मदद करने के लिए बढ़.चढक़र काम कर रहे थे। फ्लेदर को बायोमिमिक्री के सिद्धांतों पर बनाया गया है, फ्लेदर को सौंदर्य अभिव्यक्ति, लचीलापन, घनत्व और शक्ति के लिए अनुकूलित किया जा सकता है। फ्लेदर बनाने की प्रक्रिया अल्ट्रा-टिकाऊ है, न केवल कई पारंपरिक डाउनस्ट्रीम लेदर टैनिंग प्रक्रियाओं में कटौती कर रही है, बल्कि समाज के हाशिए के वर्गों से महिलाओं को बेहतर रोजगार के अवसर प्रदान करने में भी मदद कर रही है। फूल को बधाई देते हुए, आईआईटी कानपुर के निदेशक, प्रो. अभय करंदीकर ने कहा, ‘मुझे खुशी है कि फूल को इसके काम के लिए पहचाना गया है। यह न केवल एक महान व्यवसाय है, बल्कि समाज के हाशिए वाले तबके की 100 से अधिक महिलाओं को आजीविका प्रदान करने वाला एक महान कार्यस्थल है’। प्रो. करंदीकर ने आगे कहा कि उन्हें बहुत खुशी है कि फूल, ऑफग्रिड एनर्जी लिमिटेड, बायो क्राफ्ट इनोवेशन प्राइवेट लिमिटेड आदि सहित कई एसआईआईसी आईआईटी कानपुर इन्क्यूबेटरों ने न केवल राष्ट्रीय बल्कि अंतर्राष्ट्रीय पहचान भी अर्जित की है।


सच दिखाने की जिद...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *