Monday, December 5, 2022
spot_imgspot_img
Homeदेशजिले के कई वेटलैंड क्षेत्रों को किया जाएगा संरक्षित, वेटलैंड कमेटी के...

जिले के कई वेटलैंड क्षेत्रों को किया जाएगा संरक्षित, वेटलैंड कमेटी के सदस्य ने किया जिले के वेटलैंड  क्षेत्रों का निरीक्षण

बलरामपुर।  भारत सरकार द्वारा देश के 200 वेटलैंड को संरक्षित किया जाना है जिसमें जनपद के भी कुछ  वेटलैंड आते हैं उन्हीं क्षेत्रों का निरीक्षण करने वेटलैंड कमेटी भारत सरकार के सदस्य अफरोज अहमद  जनपद  पहुंचे । वेटलैंड कमेटी के सदस्य द्वारा बूढ़ी राप्ती वेटलैंड क्षेत्र, सीरिया नाला वेटलैंड क्षेत्र को देखा गया।इस दौरान  सदस्य द्वारा वेटलैंड क्षेत्र पर अवैध अतिक्रमण को दूर किए जाने, वेटलैंड क्षेत्र में वृक्षारोपण किए जाने, वेटलैंड क्षेत्र को स्थानीय लोगों को इसकी महत्वा बताए जाने तथा इसको उनकी संस्कृति से जोडे जाने की बात कही गई। उन्होंनेे  बताया कि इसके पीछे उनका उद्देश्य है कि जिले के जलीय एवं जंगली क्षेत्रों के संरक्षण के लिए उसकी कार्य योजना तैयार कर भारत सरकार को सौंपी जाए। जिससे कि जिले के वेटलैंड को संरक्षित किया जा सके। इसके लिए उनके द्वारा जिलाधिकारी  श्रुति के साथ एक बैठक कर जिले के वेटलैंड से सम्बन्धित ऐतिहासिक एवं भौगोलिक जानकारियां मांगी गई तथा वेटलैंडस को संरक्षित किए जाने के संबंध में चर्चा की गई। इस दौरान वेटलैंड कमेटी भारत सरकार के सदस्य ने कहा कि आज दुनिया में जिस तेजी से विकास हो रहा है, उसी तेजी से पर्यावरण का हनन भी हो रहा है। आधुनिक विकास ने सबसे ज्यादा नुकसान हमारे वातावरण और आद्र्रभूमियों को पहुंचाया है। कारखानों से निकलने वाले गंदे अवशिष्ट, खनन और भूमिगत जल के अत्याधिक दोहन आदि ने आद्र्रभूमि को अत्यधिक नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने कहा कि वेटलैंड जल को प्रदूषण से मुक्त बनाती है। भारत में ग्यारह लाख बारह हजार एक सौ इक्तीस हेक्टेयर क्षेत्र को अंतर्राष्ट्रीय महत्व के वेटलैंड्स की रामसर सूची में शामिल किया गया है। हालाकि श्रावस्ती का कोई भी वेटलैंड इस सूची में शामिल नहीं है। मगर श्रावस्ती में कई ऐसे वेटलैंड हैं जिनको रामसर सूची में शामिल कराने के लिए प्रयास किया जा सकता है। साथ हीं श्रावस्ती में कई ऐसे भी वेटलैंड हैं जिनके संरक्षण मात्र से हीं जलवायु प्रदूषण को कम किया जा सकता है।  जैविक रूप से विविध पारिस्थितिक तंत्र जो कई प्रजातियों के लिए आवास प्रदान करना, तूफान और बाढ़ के खिलाफ तट पर बफर्स के रूप में सेवा करना और हानिकारक प्रदूषकों को बदलकर स्वाभाविक रूप से पानी को फिल्टर अर्थात जल को प्रदूषण से मुक्त करता है। वेटलैंड्स जंतु ही नहीं बल्कि पादपों की दृष्टि से भी एक समृद्ध तंत्र है, जहां उपयोगी वनस्पतियां एवं औषधीय पौधे भी प्रचुर मात्रा में मिलते हैं। ये उपयोगी वनस्पतियों एवं औषधीय पौधों के उत्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसलिए  बलरामपुर में स्थित वेटलैंड को संरक्षित कर जलवायु को प्रदूषण मुक्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जा सकती है।
RELATED ARTICLES

Cricket live Update

- Advertisment -spot_imgspot_img
- Advertisment -spot_imgspot_img

Most Popular