Sunday, November 27, 2022
spot_imgspot_img
Homeशहरकानपुरकोरोना वायरस संक्रमण के नियंत्रण को लेकर अधिकारी चिंतित, किया निरीक्षण

कोरोना वायरस संक्रमण के नियंत्रण को लेकर अधिकारी चिंतित, किया निरीक्षण

जन एक्सप्रेस संवाददाता
कानपुर नगर। कोरोना संक्रमण के बढऩे को लेकर शहर के सभी आला अधिकारी चिंतित हैं। रविवार को कमिश्नर राजशेखर ने कोरोना संक्रमण पर बेहतर नियंत्रण और प्रबंधन के लिए आईसीसीसी (इंटीग्रेटेड कोविड-19 कमांड सेंटर) का निरीक्षण और कार्यों की समीक्षा की, इस निरीक्षण में सीडीओ और सिटी मजिस्ट्रेट भी उपस्थित थे।
कमिश्नर के निरीक्षण में पाए गए तथ्य और दिए गए निर्देश निम्न प्रकार हैं। आईसीसीसी की वर्तमान कार्य क्षमता और क्रियाशीलता संतोषजनक नहीं है । इसमें तत्काल सुधारने लाने की आवश्यकता है। 1- वर्तमान में आईसीसीसी में केवल 4 लाइनें संचालित है जो वर्तमान मांग को देखते हुए पर्याप्त नहीं हैं। तुरंत दस तक बढ़ाने की जरूरत है। टेक महिंद्रा को आज तक इसे करने का निर्देश दिया गया है और उन्होंने इसे अगले 24 घंटों में करने का आश्वासन दिया है। इन अतिरिक्त लाइनों को संभालने के लिए अतिरिक्त कर्मचारियों को तैनात किया जाना है जिसे तत्काल करने हेतु सिटी मजिस्ट्रेट को निर्देश दिया गया।
2- कोविड सुविधाओं में बिस्तरों की व्यवस्था का आवंटन प्रभावी और संतोषजनक नहीं है। प्रत्येक 4 घंटे के आधार पर बेड रिक्ति को अद्यतन किया जाना चाहिए, जो नहीं किया जा रहा है। डीएम, सीडीओ और सीएमओ सभी कोविड अस्पताल प्रभारी व्यक्ति की बैठक बुलाते हैं और उन्हें उसी के बारे में सूचित करने के लिए और इसे ठीक करवाते हैं और कोविड आईसीसीसी में डॉक्टरों को समय पर मरीजों से बात करने के बाद समय पर सुविधाएं आवंटित करने के लिए चार्ज करते हैं। सुविधाएं आवंटन के लिए आवश्यक अच्छी और कुशल डॉक्टरों की टीम तैनात किया जाना आवश्यक है।
3- एम्बुलेंस आवंटन प्रणाली कार्यात्मक और प्रभावी नहीं थी। आयुक्त क्रॉस चेक करने के लिए पिछले 48 घंटों के कई रोगियों से मोबाइल पर बात की और उन्होंने कहा कि वे अपने निजी वाहनों में आवंटित अस्पताल गए। उन्हें एंबुलेंस नहीं मिल पायी या बहुत देर से मिल पायी तब तक पेशंट अस्पताल जा चुका था।
4- होम आइसोलेशन पेशेंट की दैनिक टेलिफोनिक जांच और परामर्श कार्यात्मक नहीं है। प्रभारी अधिकारी/शहर मजिस्ट्रेट ने कहा कि कर्मचारी चुनाव ड्यूटी पर है और कल से फिर से संचालन प्रारम्भ किया जाएगा। इसके लिए अन्य स्टैंडबाय व्यवस्था की योजना पहले से बनाई जानी चाहिए थी।
5- प्रत्येक कोविड-19 अस्पताल में रोगियों के सुचारू रूप से प्रवेश, बेड रिक्ति के अपडेशन और अन्य कोविड-19 संबंधित रिपोर्टिंग और निगरानी गतिविधियों के लिए प्रत्येक अस्पताल में एक मजिस्ट्रेट नामित किया जाये और कार्यों को व्यवस्थित ढंग से संचालित किया जाए।
6- डीएम सीडीओ और सीएमओ को पिछले एक सप्ताह मे आईसीसीसी के कार्यों के पूरे अनुक्रम की समीक्षा करने के लिए निर्देश दिए गए जैसे आरआरटी रिपोर्टिंग, होम आइसोलेशन आरआरटी अस्वीकृति और फिर आई सी सी सी डॉक्टर्स मरीजों को कॉल करते हैं और फिर बेड आवंटन, फिर एम्बुलेंस आवंटन, एम्बुलेंस प्रतिक्रिया समय, रोगी प्रवेश समय में आवंटन सुविधाओं में, नियमित आधार पर बिस्तर रिक्ति का अपडेशन, और फिर सभी होम आइसोलेशन रोगियों के लिए 100 प्रतिशत कॉल, सभी डिस्ट्रेस कॉल अटेंड करना और उन्हें समय पर हल करना। उपरोक्त समीक्षा के उपरांत आवश्य सुधारात्मक कदम उठाए।
7- सेवा प्रदाता द्वारा आईसीसीसी का संचालन करना तत्काल आवश्यक है। नियमित कार्यों की प्रभावी अनुश्रवण हेतु अतिरिक्त कर्मचारी, समर्पित नोडल अधिकारियों को आईसीसीसी की समीक्षा के लिए नामित किया जाना चाहिए।
8- डीएम, सीडीओ और सीएमओ, नई सेवा प्रदाता के कामकाज शुरू होने और सेवा सुचारू होने तक उपरोक्त बातों पर प्रभावी ढंग से निगरानी करने और सेवा वितरण में सुधार होने तक कम से कम एक सप्ताह के लिए हर दिन 2 घंटे समर्पित करने के लिए निर्देश दिए गए।
9 – आई सी सी सी में पिछले एक सप्ताह से आधे से कम व्यक्ति डूटी पर उपस्थित हए हैं। यह स्थिति ठीक नहीं है। यह प्रभारी अधिकारी द्वारा प्रभावी ढंग से निगरानी और पर्यवेक्षण नहीं किया जा रहा है। इसे तुरंत सुधारना होगा। सभी समय पर उपस्थित हो और अपनी डूटी करे और इसे प्रभारी अधिकारी को निगरानी करनी चाहिए। सभी अनुपस्थित लोगों को नोटिस जारी किया जाएगा और कड़ी अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के लिए जिलाधिकारी निर्देश दिए गए।

RELATED ARTICLES

Cricket live Update

- Advertisment -spot_imgspot_img
- Advertisment -spot_imgspot_img

Most Popular