Friday, December 9, 2022
spot_imgspot_img
Homeशहरकानपुरदस साल पहले अपहृत नाबालिग का ढाई लाख रुपए में हुआ था...

दस साल पहले अपहृत नाबालिग का ढाई लाख रुपए में हुआ था ‘सौदा’

पीडि़ता ने बताया कि उसके साथ जबरन किया जाता रहा कई लोगों द्वारा गैंगरेप

जन एक्सप्रेस/पिंटू सिंह
कानपुर नगर। शहर के कल्यानपुर थाना क्षेत्र से दस वर्ष पूर्व अपहृत हुई नाबालिग अचानक घर पहुंची तो परिजन खुशी से झूम उठे। परंतु जब उसने अपनी पीड़ा बताई तो परिजनों के पैरों तले जमीन खिसक गई। महिला के साथ हुए अत्याचार के मामले में जब उसे उसके परिजन लेकर थाने पहुंचे तो उसकी सुनवाई नहीं हुई और वह लगातार थाने के चक्कर काटती रही। पीडि़त महिला व उसके परिवार ने सुनवाई न होने की शिकायत उच्चाधिकारियों से की तब थाना एक्टिव मोड में आया और पीडि़ता को थाने बुलाकर उसके बयान लिए गए।

पीडि़ता का 10 वर्षों तक होता रहा गैंगरेप
कल्याणपुर थाना क्षेत्र के सराय मस्वानपुर निवासी पीडि़त महिला ने बताया कि 2011 को उसकी उम्र 14 वर्ष थी। उसके माता-पिता काम पर गए थे तभी पड़ोस में रहने वाला राजेश सिंह मूल पता हरदोई माधवगंज घर आया और कहा कि तुम्हारे पिता बेहोश होकर गिर पड़े हैं। रास्ते में राजेश ने उसे कुछ सुंघा कर बेहोश कर दिया और उसे किसी गाड़ी से बिठा कर ले गया । जब उसे होश आया तो वह विद्यापुर गांव में थी जहां उसे कई दिनों तक बेहोशी की हालत में कमरे में बंद रखा गया। पीडि़ता का आरोप है कि इस दौरान कई लोगों ने उसका शारीरिक शोषण किया।
ढाई लाख रुपए में किया गया सौदा
पीडि़त महिला ने आगे अपनी दास्तां बताते हुए कहा कि चंडीगढ़ निवासी शांति देव के हाथों में उसे ढाई लाख रुपए में बेच दिया। शांति देव उसे अपने साथ घर ले गया और उसका शारीरिक शोषण करता रहा। शांति देव से उसकी तीन बेटियां भी हैं। दस सालों के अंतराल में उसने कई बार भागने का प्रयास किया लेकिन वह सफल नहीं हो सकी। इस दौरान शांति देव और अन्य आरोपी उसे नग्न कर बेल्टों से मारते पीटते रहे। बीते 13 मार्च को पीडि़ता आरोपियों को चकमा दे कर कानपुर अपने घर पहुंची। पीडि़ता ने आरोप लगाया कि सभी आरोपी लड़कियों की खरीद-फरोख्त करते हैं।

 

 

 

 

RELATED ARTICLES

Cricket live Update

- Advertisment -spot_imgspot_img
- Advertisment -spot_imgspot_img

Most Popular