समूह के लोग आंगनबाड़ी केंद्र में न उपलब्ध करा अपने घर ले जाते है पुष्टाहार

देश
सच दिखाने की जिद...

मौदहा। हमीरपुर। बाल विकास परियोजना में स्वयं सहायता समूह की हिस्सेदारी जोड़ने के बाद विकास खंड क्षेत्र के केंद्रों में उपलब्ध होने वाले पुष्टाहार की जमकर शिकायतें आ रही है, कई केंद्रों में तो स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलाओं के पति केंद्र पर बिल्कुल भी पुष्टाहार उपलब्ध कराने को तैयार नहीं हैं।
          आपको बता दें कि मौदहा विकासखंड क्षेत्र में कुल 251 आंगनवाड़ी केन्द्रों में लगभग 18,000 बच्चे पंजीकृत हैं जिनमें सभी केंद्रों पर पुष्टाहार व बच्चों की देखरेख की जिम्मेदारी आंगनवाड़ी व सहायक का करती थी लेकिन अब शासन की नई गाइडलाइंस के अनुसार बाल विकास विभाग से पुष्टाहार ले जाकर केंद्र तक पहुंचाना एवं वितरित कराने में सहयोग करने की दृष्टि से स्वयं सहायता समूह को जोड़ा गया है लेकिन ज्यादातर स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलाएं न पहुंचकर उनके घर से पुरुष बाल विकास केंद्र से पुष्टाहार प्राप्त कर केंद्र ना ले जाकर सीधे अपने घर ले जाते हैं और मनमानी ढंग से केंद्रों पर पुष्टाहार उपलब्ध कराया जाता एवम् कुछ गांव में तो खुद ही वितरित कर दिया जाता है जिससे कई गांव के केंद्रों पर अधिकांश बच्चों व गर्भवती महिलाओं को पुष्टाहार उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। हालांकि इस संबंध में स्थानीय जिम्मेदार अधिकारियों का कहना है कि यहां से पुष्टाहार सही समय पर और समुचित रूप से पहुंचाया जा रहा है लेकिन स्वयं सहायता समूह की महिलाओं की बजाय उनके घर से पुरुष पुष्टाहार वितरण में हेर फेर कर रहे हैं क्षेत्र के खंडेह गांव में 2 स्वयं सहायता समूह संचालित हैं जिनके द्वारा एक केंद्र में 42 तथा दूसरे केंद्र में 69 पुष्टाहार के पैकेट कम दिए गए थे इसी प्रकार सायर एवम् गुढ़ा गांव में समस्या आ रही है,  हालाकि इस संबंध में जब प्रभारी सीडीपीओ नीलम देवी से पूंछा गया तो उन्होंने बताया कि शिकायत मिली थी, इसके बारे में उच्चाधिकरियों को अवगत कराया गया है।

सच दिखाने की जिद...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *