क्या योगी सरकार में पुलिस की तानाशाही सहने को मजबूर होना पड़ेगा पत्रकारों को?

उत्तर प्रदेश कानपुर राज्य शहर
सच दिखाने की जिद...

जन एक्सप्रेस/अंकित चौधरी
कानपुर नगर। शहर को जब से शासन द्वारा पुलिस कमिश्नरेट घोषित किया है तब से ही लोकतंत्र के चौथे स्तंभ से जुड़े पत्रकारों को कानपुर पुलिस ने टारगेट करना शुरू कर दिया है। अब ऐसा लगता है कि शहर की पुलिस यह चाहती है कि वह जो बताए वहीं पत्रकार लिखें अगर कानपुर पुलिस दिन को रात कहे तो पत्रकार दिन को रात लिखें अगर कानपुर पुलिस रात को दिन कहे तो पत्रकार उसे दिन लिखें लेकिन ऐसा ना होने पर पुलिस ने अब जैसे कि स्वतंत्र होकर स्पष्ट लिखने वाले पत्रकारों को सबक सिखाने का मन बना लिया है और तानाशाही पर उतर आई है।
मंगलवार को थाना कल्याणपुर क्षेत्र में नकली सीमेंट फैक्ट्री में पुलिस ने छापेमारी की तो इस छापेमारी की सूचना सूत्रों से शहर के कुछ पत्रकारों को भी हुई। क्षेत्रीय पत्रकार होने के नाते कुछ पत्रकार मौके पर पहुंच गया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से जुड़े एक सम्मानित चैनल के कैमरामैन ने जैसे ही कैमरा निकाल कर कवरेज करनी आरंभ की वैसे ही कल्याणपुर पुलिस के पुलिसकर्मी कैमरामैन पर झपट पड़े और उसका कैमरा बंद करवाते हुए कहा कि तुम्हें यहां कवरेज नहीं करनी है जो कुछ भी लेना है मीडिया सेल से लो, कल्याणपुर पुलिस की इस हरकत का पता चलते ही पत्रकारों में रोष व्याप्त हो गया परंतु कलमकार लड़ तो सकता नहीं है बस अपने अपमान को सह गया।
क्या है पूरा मामला
आप को बता दें कि पुलिस ने अशोक वाटिका चौराहे के पास एक नकली सीमेंट फैक्ट्री में छापेमारी की थी जहा से भारी मात्रा में नकली सीमेंट बरामद भी किया इस दौरान पुलिस ने मौके से तीन लोगो को गिरफ्तार किया है ।वही छापेमारी की सूचना पर पहुची मीडिया द्वारा कवरेज करने के दौरान पुलिस मीडिया कर्मी के कैमरे पर हाथ मारते हुए बन्द कराया। बताया जा रहा है कि जिस फैक्ट्री में पुलिस ने छापेमारी की थी उसके मालिक का नाम आलम है जिसका कल्याणपुर समेत पनकी, टिकरा आदि जगह नकली सीमेंट का गोरखधंधा बड़े पैमाने पर चल रहा है और इसमे प्रिज्म, एसीसी जैसी ब्रांडेड कंपनियों के नाम पर काला कारोबार किया जा रहा है । इससे पहले भी फैक्ट्री मालिक पर कार्यवाही के नाम पर पैसा लेकर छोड़ दिया गया था और इस बार भी फैक्ट्री मालिक आलम की मोटी रकम लेकर फरार करा दिया गया। और यह राज ना खुल जाए इसलिए कल्याणपुर पुलिस ने पत्रकारों को खबर बनाने से रोक दिया।


सच दिखाने की जिद...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *