Monday, January 30, 2023
spot_imgspot_img
Homeराज्यकड़ाके की ठंड के बीच धर्म नगरी में भक्तों ने लगाई अस्था...

कड़ाके की ठंड के बीच धर्म नगरी में भक्तों ने लगाई अस्था डुबकी

मकर संक्रांति के उपलक्ष्य में  धर्म नगरी में लगा भक्तों का ताता
चित्रकूट | गुरुवार को मकर संक्रांति के पावन पर्व पर लाखों श्रद्धालुओं ने पतित पावनी मां मंदाकिनी नदी में आस्था की डुबकी लगाकर मत्यगेंद्रनाथ नाथ (प्राचीन शिव मंदिर) में जलाभिषेक किया। इसके बाद मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए कामदगिरि पर्वत की पंचकोसीय परिक्रमा लगाई। साथ ही सूर्य नारायण को अर्घ्य देकर खिचड़ी का दान किया।आदितीर्थ के रूप मे समूचे विश्व मे विख्यात धर्म नगरी चित्रकूट में मकर संक्रांति पर्व का विशेष महत्व है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मकर संक्रांति के पर्व पर मंदाकिनी नदी में स्नान कर कामदगिरि की परिक्रमा लगाने खिचड़ी का दान करने और मंदाकिनी नदी के जल से सूर्य नारायण को अर्घ्य देने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। मत्यगेंद्रनाथ नाथ मंदिर के पुजारी विपिन महाराज ने बताया कि मकर संक्रांति के उपलक्ष्य पर धर्म नगरी में सुबह से ही लाखों श्रद्धालुओं का जमावड़ा लगा रहा। भोर से ही मंदाकिनी में आस्था की डुबकी लगा कर सूर्य नारायण को अर्घ्य दिया और खिचड़ी और वस्त दान किया। चित्रकूट के क्षेत्र पालक भगवान ब्रम्हा द्वारा स्थापित सृष्टि के प्रथम शिवलिंग स्वामी मत्यगेंद्रनाथ का जलाभिषेक किया। इसके बाद मनोकामना के पूरण की कामना को लेकर कामदगिरि पर्वत की पंचकोसीय परिक्रमा लगाई। पतित पावनी मां मंदाकिनी में आस्था की डुबकी लगाने आये श्रद्धालुओं से जब जन एक्सप्रेस की टीम ने बात की तो  श्रद्धालुओं ने कहा चित्रकूट प्रभु श्रीराम की तपोभूमि है। मंदाकिनी स्नान और कामदगिरि की परिक्रमा लगाने से समस्त मनोकामनायें पूर्ण होती है।
डीएम शेषमणि पांडेय ने कहा कि मकर सक्रांति को लेकर मेला परिक्षेत्र में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। मन्दाकिनी में स्नान करते हुए समय कोई हादसा न हो, इसके लिए गोताखोरों की तैनाती की गई है। पूरे मेला क्षेत्र में सेक्टर मजिस्ट्रेटों की तैनाती की गई है। आपको बता दें कि चित्रकूट में प्रभु श्रीराम की तपोभूमि में मकर संक्रांति पर पारा पांच डिग्री से नीचे है लेकिन श्रद्धालुओं में उत्साह देखते बना। पौराणिक भरतकूप व पतित पावनी मां मंदाकिनी में स्नान व दान पुण्य के लिए लोगों का तांता लगा है। चारों ओर भजन कीर्तन व मंत्र सुनाई दे रहे हैं।पैसेंजर ट्रेन बंद होने से अधिकांश लोग निजी वाहनों से चित्रकूट पहुंचे। लोगों को सर्दी से बचने के लिए प्रशासन ने अलाव व रैन बसेरा के इंतजाम किए हैं। साथ ही व्यवस्थाओं की निगरानी के लिए मजिस्ट्रेट तैनात हैं।
RELATED ARTICLES

Cricket live Update

- Advertisment -spot_imgspot_img
- Advertisment -spot_imgspot_img

Most Popular