उत्तर प्रदेश में कोहरा के साथ बढ़ी गलन से हलाकान हुए किसान

उत्तर प्रदेश कानपुर राज्य शहर
सच दिखाने की जिद...

सर्दी से बचने के लिए अलाव व हीटर बन रहे सहारा, घरों में दुबकने को मजबूर हैं बुजुर्ग
जन एक्सप्रेस संवाददाता
लखनऊ/कानपुर। उत्तर प्रदेश में मौसम का उतार-चढ़ाव बदस्तूर जारी है और रविवार को भी कोहरे के साथ सुबह की शुरुआत हुई। इसके चलते हाइवे व सडक़ों पर वाहन रेंगते हुए निकले, जबकि सर्द हवाओं से जनजीवन अस्तव्यस्त रहा। करीब 10 बजे के बाद निकली धूप भी लोगों को ठंड से अधिक देर राहत नहीं दे सकी।
सर्दी से बचने के लिए लोगों ने हीटर और अलाव का सहारा लिया। सुबह व रात की सर्दी लोगों को ठिठुरने पर मजबूर कर रही है। ऐसे मौसम में किसानों की परेशानियां बढ़ गयी हैं क्योंकि फसलों में रोग लगने की संभावना बढ़ गयी है। मौसम विभाग का कहना है कि अभी दो दिनों तक ऐसा ही मौसम रहेगा और गलन बरकरार रहेगी।
वहीं कानपुर में अभी गलन भरी सर्दी से राहत नहीं मिलेगी। हवाओं की दिशाएं बदलने से भले ही बर्फीली हवाओं का कहर कमजोर हो रहा है, पर गलन बरकरार है। रविवार को भी सुबह कड़ाके की सर्दी पड़ी। हाल यह रहा कि लोगों के हाथ-पैर सुन्न हो गए। हालांकि धूप निकलने से राहत मिली लेकिन वातावरण में आद्र्रता अधिक होने से राहत ज्यादा देर तक नहीं मिल सकी। सुबह और रात की सर्दी लोगों को ठिठुरने पर मजबूर कर रही है। लोग घरों से बाहर निकलने की हिम्मत न कर सके। गलन का प्रतिशत अधिक होने से घरों के कमरे कोल्ड स्टोरेज सरीखे रहे। सुबह 5 बजे से 10 बजे तक भीषण सर्दी रही। इसके बाद तापमान में बढ़त दर्ज की गई। हवा की रफ्तार करीब चार किमी प्रतिघंटा होने से शीतलहर चलती रही। अधिकतम तापमान 19 डिग्री तथा न्यूनतम तापमान छह डिग्री रहा। वहीं सुबह करीब साढ़े दस बजे तक आसमान में घने कोहरे की चादर छाई रही। कोहरे के चलते हाइवे पर फर्राटा भरने वाले वाहनों की रफ्तार धीमी रही। कोहरे के चलते सडक़ों पर वाहन रेंगते हुए निकले। शहर हो या गांव सभी जगह लोग सर्द हवों के कारण ठिठुरने के लिए मजबूर हो गए। दुकानदारों से लेकर रिक्शा चालक तक परेशान रहे। रोजी-रोटी के लिए घर से निकले लोग इस सर्दी से परेशान दिखाई दिए। सर्दी से बचने के लिए लोगों ने हीटर और अलाव का सहारा लिया।
चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कानपुर के मौसम वैज्ञानिक डा. एस.एन. सुनील पाण्डेय ने बताया कि हवाओं की दिशाएं बदलने से शीतलहर का प्रकोप कम हुआ है, पर दक्षिणी पूर्वी हवाओं के चलने व वातावरण में आद्र्रता अधिक होने से गलन बरकरार है। बताया कि उत्तर प्रदेश के लगभग सभी जनपदों में तापमान सामान्य से कम चल रहा है। इससे रवी की फसलों के उत्पादन पर रोग लगने से असर पड़ सकता है। ऐसे में किसान भाई फसलों को रोगों से बचाने के लिए बराबर निगरानी करते रहें और दवाओं का छिडक़ाव करते रहें। बताया कि इस सप्ताह मध्य उत्तर प्रदेश के ब्लाक एवं जिला स्तर पर आसमान में बादल छाये रहने की सम्भावना है।

 

 

 

 

 

 


सच दिखाने की जिद...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *