कबाड़ की तस्करी, चंदन चौकी बॉर्डर से भारी मात्रा में हो रही

उत्तर प्रदेश राज्य
सच दिखाने की जिद...
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जन एक्सप्रेस/मुशीर।
स्थानीय पुलिस और बॉर्डर पर तैनात सुरक्षा एजेंसियों की है मिलीभगत
लखीमपुर/पलिया | खीरी चंदन चौकी। वैसे तो भारत से नेपाल और नेपाल से भारत को किराना परचून,सीमेंट,मटर,यूरिया खाद आदि की तस्करी तो आम बात है लेकिन वर्तमान समय में पड़ोसी नेपाल देश से सीमा पार कर भारत मे कबाड़ की तस्करी का धंधा भारत नेपाल सीमा से लगी चंदन चौकी मंडी के कुछ तस्करों ने शुरू कर दिया है।ये तस्कर खराब कबाड़ कहलाई जाने वाली 150 एम्पियर,12 वोल्ट,20 वोल्ट आदि की बैटरी नेपाल से किलो के हिसाब से खरीदते हैं और कैरियर के द्वारा सीमा पार कराकर भारत मे ऊंचे दाम पर बेंच देते हैं सूत्रों के अनुसार इस धंधे में तस्करों को लगभग 10 से 20 रुपए किलो का लाभ होता है यानी 50 कुंतल बैटरी नेपाल से भारत लाकर बेचने पर 50 हज़ार से 1 लाख रुपये का लाभ होता है।इसी प्रकार कबाड़ तांबे व सिल्वर के बर्तनों की भी तस्करी की जाती है जोकि वर्तमान समय मे चंदन चौकी से की जा रही है।यहां के तस्कर दिन रात नेपाल से भारत कैरियरों के द्वारा कबाड़ लाते हैं और फिर उन्हें चंदन चौकी से पलिया चलने वाली डग्गामार टाटा मैजिक सवारी गाड़ियों से पलिया पहुंचा देते हैं।इस तस्करी के काम को अंजाम देने के लिये यहाँ के कुछ तस्करों ने तो टाटा मैजिक सवारी गाड़ी खरीद तक ली है जिससे वो सवारी ढोने की आड़ में तस्करी के धंधे को खुलेआम अंजाम दे रहे हैं।सूत्रों के अनुसार इस तस्करी की जानकारी स्थानीय कोतवाली पुलिस को भी किंतु वह इन पर अपना शिकंजा नहीं कसती जिससे कि स्थानीय पुलिस व सीमा सुरक्षा एजेंसी की इन तस्करों से मिलीभगत होना प्रतीत होता है।
Attachments area

सच दिखाने की जिद...
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *